Wednesday, December 1, 2010

तू तो ले बैठ्यो मन्ने

hindi hasyakavi albela khatri,rajasthani kavita,manhar,jaipur,maayad bhasha, marudhara
हास्य सम्राट डॉ रामरिख "मनहर" जी

कवि-सम्मेलना म्हे आपरै सञ्चालन म्हे

अक्सर मन्ने कहया करता हा :





मैं लेण आयो थो तन्ने

तू तो ले बैठ्यो मन्ने

तू छोड़ दे मन्ने

तो मैं ले जाऊं तन्ने ..............हा हा हा हा


2 comments:

  1. क्या आपने ब्लॉग संकलक हमारीवाणी पर अपना ब्लॉग पंजीकृत किया है?


    अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें.
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    ReplyDelete